HTML क्या है ? What is HTML in hindi | पूरी जानकारी |

हेलो दोस्तो एक वेबसाइट को बनाने के लिए जितना जरूरी html है उतना ही जरूरी जानना यह है की html क्या है ?

यदि आप जानना चाहते हैं की html क्या है (what is html in hindi) और html tags in hindi तो आज के इस आर्टिकल में मैं आपको html से संबंधित सारी जानकारी देने वाला हूं जैसे की html क्या है (what is html in hindi), html tags, html full form और तो और features of html in hindi, advantages of html in hindi आदि|तो इस आर्टिकल को पूरा लास्ट तक पढ़िए जिससे आपको अच्छी तरह से समझ में आ जाए की html kya hai (what is html in hindi), तो चलिए शुरू करते हैं|

HTML Full form

HTML का फुल फॉर्म Hypertext markup language होता है|

Hypertext : अब इसमें Hypertext को समझे तो hypertext, किसी वेबपेज में दिखने वाला वह टेक्स्ट होता है जिसमें किसी दूसरे वेब पेज इमेज वीडियो या डॉक्यूमेंट आदि का लिंक होता है हाइपरटेक्स्ट के द्वारा हम एक लिंक पर क्लिक करके multiple pages में जंप कर सकते हैं

Markup : एचटीएमएल में मार्क अप का मतलब होता है की टेक्स्ट को tags और annotation के द्वारा मार्क करना| मार्कअप html का बहुत ही इंपॉर्टेंट कंपोनेंट है जिससे आप एक वेब पेज में टेक्स्ट और कंटेंट को स्ट्रक्चर और फॉर्मेट दे सकते हैं मार्कअप tags के द्वारा आप ब्राउज़र को बताते हैं की वेब पेज में कंटेंट को कैसे डिस्पले करना है| जैसे heading को डिस्प्ले करने के लिए <h1> </h1>…………<h6> </h6> ,पैराग्राफ को डिस्प्ले करने के लिए <p> </p> और इमेज को डिस्प्ले करने के लिए <img> tag का इस्तेमाल किया जाता है|

HTML क्या है ? (What is HTML in hindi)

एचटीएमएल एक मार्कअप लैंग्वेज है जिसका उपयोग वेब पेज को बनाने और उन्हें फॉर्मेट करने के लिए किया जाता है| एचटीएमएल एक स्टैंडर्ड है जो वेब ब्राउज़र के द्वारा समझा जाता है और वेब पेज में उपस्थित कंटेंट को सही तरीके से दिखाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है HTML एक मार्कअप लैंग्वेज है इसका मतलब है कि आप HTML का उपयोग करके टेक्स्ट ,इमेज, लिंक टेबल ,फॉर्म और अन्य सभी एलिमेंट्स को मार्क कर सकते हैं जिससे वेब ब्राउज़र उन्हें सही तरीके से प्रोसेस करके वेबपेज में डिस्प्ले कर सके|

एचटीएमएल का उपयोग एचटीएमएल के predefined tags का इस्तेमाल करके किया जाता है जिन्हे angle bracket (<>) के द्वारा पर रिप्रजेंट किया जाता है|

HTML के द्वारा आप वेबपेज का स्ट्रक्चर डिफाइन कर सकते हैं आप हैडिंग ,पैराग्राफ, लिस्ट, टेबल ,इमेज ,फॉर्म और भी बहुत कुछ चीजें एक वेब पेज के अंदर html की सहायता से डाल सकते हैं|

एचटीएमएल वेब डेवलपमेंट का मुख्य हिस्सा है और यह हर एक वेब पेज का फाउंडेशन होता है वेब डेवलपर्स एचटीएमएल का उपयोग करके वेबपेजेस बनाते हैं और कंटेंट, स्ट्रक्चर और लेआउट को डिफाइन करते हैं वेब ब्राउज़र एचटीएमएल को समझता है और उसे इंटरप्रेट करके वेब पेज को डिस्पले करता है|

HTML का इतिहास (History of HTML in hindi)

एचटीएमएल का इतिहास वेब डेवलपमेंट की शुरुआत से जुड़ा हुआ है एचटीएमएल का विकास इंटरनेट के विकास के साथ-साथ हुआ है यहां आप एसटी मिल के मुख्य चरणों को देख सकते हैं :

  • शुरुआती डेवलपमेंट : एचटीएमएल का विकास 1980 में शुरू हुआ था जब सर Tim Berners-Lee ने (CERN) में काम करते हुए वर्ल्ड वाइड वेब की रचना की|उन्होंने एक सिस्टम डिवेलप किया जिसमें हाइपरटेक्स्ट डॉक्यूमेंट को शेयर और लिंक किया जा सके उन्होंने एचटीएमएल का पहला वर्जन बनाया और 1991 में उसे पब्लिश किया|
  • HTML Version : अभी तक तो एचटीएमएल के बहुत सारे वर्जन डिवेलप हो चुके हैं हर एक वर्जन में कुछ नए फीचर और क्वालिटी शामिल है|एचटीएमएल 2.0 (1995) में टेबल्स और फॉर्म्स जैसे फीचर्स शामिल हुए| एचटीएमएल 3.2 (1997) में frames, इमेज ,मैप और टेबल का अपडेटेड वर्जन सपोर्ट जैसे फीचर्स शामिल हुए |एचटीएमएल 4.01 (1999) में css का पहला लेवल और स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज जैसे जावास्क्रिप्ट का सपोर्ट शामिल हुआ|
  • XHTML : XHTML (Extensible Hypertext markup language) HTML का एक XML Based version है| XHTML stricter syntax फॉलो करता है और xml के rule को मानता है|
  • HTML 5 : HTML5 को w3c के द्वारा डेवलप किया गया है HTML5 एक बड़ा अपडेट है जिसमें मल्टीमीडिया, कनवास, लोकल स्टोरेज ,सेमांटिक एलिमेंट्स और फॉर्म वैलिडेशन जैसे फीचर्स शामिल हुए| html5 2014 में officially recommend किया गया|

HTML का इतिहास बताता है कि उसने वेब डेवलपमेंट को कितना आगे तक बढ़ाने में सहयोग किया है| एचटीएमएल ने आज की आधुनिक वेब एप्लीकेशंस के लिए पावरफुल योग्यता और क्षमता प्रदान की है|

HTML की विशेषताएं (Features of HTML in Hindi)

  • Structure : एचटीएमएल का उपयोग वेब पेज का स्ट्रक्चर तैयार करने के लिए किया जाता है एचटीएमएल का उपयोग करके आप एक वेब पेज में हेडिंग ,पैराग्राफ, लिस्ट, टेबल, फॉर्म और अन्य सभी एलिमेंट्स को ऐड कर सकते हैं और उनको उपयोग कर सकते हैं|
  • Tags : HTML के tags HTML के मुख्य तत्व होते हैं यह angle bracket (<>) के भीतर लिखे जाते हैं| एचटीएमएल टैग्स के द्वारा आप कंटेंट को अलग-अलग categories में विभाजित कर सकते हैं और उन्हें वेब ब्राउज़र के लिए समझने और इंटरप्रेट करने के लिए सही तरीके से मार्क कर सकते हैं|
  • Links : HTML के माध्यम से आप हाइपरलिंक बनाकर एक वेब पेज से दूसरे के पेज तक पहुंच सकते हैं इससे यूजर को संबंधित कंटेंट, external वेबसाइट, डॉक्यूमेंट और रिसोर्सेज तक पहुंचने में मदद मिलती है|
  • Images : html के द्वारा आप इमेज को भी वेबपेज के अंदर दिखा सकते हैं इमेज को दिखाने के लिए आपको <img> tag का इस्तेमाल करना होगा|
  • Forms : एचटीएमएल फॉर्म वेब पेज पर यूजर इनपुट को एक्सेप्ट करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं| फॉर्म के द्वारा आप text field, checkbox, radio button, dropdown menus और submit button जैसे elements को अपने वेबपेज में add कर सकते हैं|इससे यूजर का फॉर्म के साथ इंटरेक्शन अच्छी तरीके से होता है और डाटा का कलेक्शन भी सही फॉर्मेट में होता है|
  • Semantic elements : html5 में semantic elements का प्रवेश हुआ जैसे की <header>, <nav>, <section>, <article>, <footer> आदि| ये tag कंटेंट को मीनिंगफुल बनाने और स्ट्रक्चर को सही तरीके से समझाने और सर्च इंजन के लिए इंटरप्रेट करने में मदद करते हैं|

एचटीएमएल कितने प्रकार के होते हैं (Types of html tags)

HTML मैं बहुत सारे tag होते हैं जिनके द्वारा आप वेबपेज में कंटेंट को डाल सकते हैं| कुछ प्रमुख html tag आप नीचे देख सकते हैं :

  • Heading Tags : एचटीएमएल में हेडिंग को डिफाइन करने के लिए heading Tags का इस्तेमाल किया जाता है| सबसे बड़ा heading tag <h1> उससे छोटा <h2> और इसी तरह से <h3> , <h4>, <h5> घटते क्रम में <h6> तक आप heading को वेबपेज में दिखा सकते हैं |
  • Paragraph tags : पैराग्राफ टैंक का उपयोग फ्री पेज में पैराग्राफ को डिफाइन करने के लिए किया जाता है इसे opening tag <p> और closing tag </p> से दर्शाया जाता है|यह टैग वेब पेज में new line क्रिएट करके कंटेंट को अलग-अलग पैराग्राफ में रखने के लिए उपयोग किया जाता है|
  • List Tags : एचटीएमएल में दो तरह की लिस्ट बनाई जाती है पहली unordered list (<ul>) और दूसरी ordered list (<ol>)| unordered list में हम numbering नही करते बल्कि कुछ symbols की सहायता से लिस्ट बनाते हैं, जबकि ordered list में numbering की जाती है| unordered list में हम list tag (<li> ) का उपयोग करते हैं और ordered list में numbering की जाती है|
  • Link tag : link tag का उपयोग hyperlinks को बनाने के लिए किया जाता है| इसके attributes जैसे “href” और “target” है| href का उपयोग text में लिंक add करने के लिए किया जाता है और target का इस्तेमाल यह बताता है की लिंक को किस tab या window में खोलना है|
  • Table tag : एचटीएमएल में टेबल टैग “<table>” का उपयोग टेबल को क्रिएट करने और उसमे tabular फॉर्म में डाटा को रिप्रेजेंट करने के लिए किया जाता है|इसके अंदर “<tr>” tag का उपयोग table row को डिफाइन करने के लिए किया जाता है| “<th>” tag का उपयोग table header को डिफाइन करने के लिए और “<td>” tag का उपयोग table data को डिफाइन करने के लिए किया जाता है|

यह सिर्फ कुछ प्रमुख HTML टैग है एचटीएमएल में और भी बहुत सारे html tags होते हैं जिनके द्वारा आप वेब पेज का स्ट्रक्चर और कंटेंट को और भी स्ट्रक्चर्ड तरीके से डिफाइन कर सकते हैं|

HTML कैसे काम करता है (How html form works) :

HTML का उपयोग वे पेज केसर और कंटेंट को डिफाइन करने के लिए किया जाता है लेकिन इस टाइम एलपी ब्राउज़र में कैसे काम करता है इसे आप कुछ स्टेप्स से समझ सकते हैं :

  • जब भी आप एक वेब पेज को अपने ब्राउज़र में ओपन करते हैं तब आपका भी ब्राउजर सर्वर से एचटीएमएल फाइल को रिक्वेस्ट करता है और वेब सर्वर एचटीएमएल फाइल को रिस्पांस के रूप में वेब ब्राउज़र को सेंड कर देता है|
  • वेब ब्राउज़र को html फाइल मिल जाने के बाद वह फाइल को पढ़कर उसके component, tags और content को समझता है और समझ कर यह पूरे वेब पेज को एक tree के स्ट्रक्चर में कन्वर्ट करके एक मॉडल बिल्ड कर देता है जिसे DOM (Document object model) कहा जाता है|
  • DOM एक रिप्रेजेंटेशन प्रोसेस होती है जिसमें वेब पेज को ट्री के फॉर्म में दिखाया जाता है जिसमें वेब पेज का structure, element और उनके attributes शामिल होते हैं|
  • इसके बाद भी ब्राउज़र DOM को स्क्रीन पर डिस्प्ले करता है और एचटीएमएल में उपस्थित कंटेंट टेक्स्ट ,इमेज, लिंक, फॉर्म और अन्य एलिमेंट्स को सही तरीके से हमारे सामने डिस्प्ले करता है|

HTML से वेबपेज कैसे बनाएं (How to make html page)

हस्तीमल का उपयोग करके आप एक सिंपल भी पेज बना सकते हैं नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके आप एक सिंपल एचटीएमएल पेज बना पाएंगे :

  • text editor को चुने : सबसे पहले आप एक text editor चुनें जैसे की notepad, sublime text, atom, vs code या और कोई text editor, उसे ओपन करें|
  • HTML code लिखें : text editor ओपन करने के बाद आपको उसमें एचटीएमएल के कुछ कोड लिखने होंगे| आप नीचे दिए गए html code को कॉपी करके अपने टेक्स्ट एडिटर में पेस्ट कर सकते हैं|
<!Doctype html>
<html>
<head>
   <title>My first web page</title>
</head>
<body>
   <h1>welcome to my webpage</h1>
   <p>this is paragraph</p>
</body>
</html>
  • Element add करें : अपने html code के अंदर heading “<h1>……<h6>” और paragraph “<p>” जैसे elements add करे, जिसे आप अपने वेबपेज में डिस्प्ले करना चाहते हैं|
  • फाइल save करें : html की कोडिंग करने के बाद आपकी जो html की फाइल बनी है उसे अपने कंप्यूटर में सेव भी करना पड़ेगा| आप “save” ऑप्शन पर क्लिक करके फाइल को “.html” extension के साथ अपने कम्प्यूटर में सेव कर लें| जैसे index.html
  • फाइल ओपन करें : फाइल को सेव करने के बाद आपको फाइल को किसी ब्राउजर में ओपन करना होगा इसके लिए आप फाइल का path कॉपी करके वेब ब्राउज़र के सर्च बार में पेस्ट कर सकते हैं या फिर फाइल पर डबल क्लिक करके भी ब्राउज़र पर डायरेक्ट ओपन कर सकते हैं|इससे आपके एचटीएमएल फाइल के अंदर जो भी कंटेंट होगा वह आपके भी ब्राउज़र में डिस्प्ले करने लगेगा|

HTML के फायदे (Advantages of HTML in hindi) :

IT industry में HTML के बहुत सारे फायदे हैं| कुछ प्रमुख फायदे आप नीचे देख सकते हैं :

  • universal language : एचटीएमएल एक यूनिवर्सल लैंग्वेज है जिससे कि हर वेब ब्राउजर सपोर्ट करता है| यह क्रॉस प्लेटफॉर्म कंपैटिबिलिटी की सुविधा प्रदान करता है जिससे आप वेब पेज को किसी भी डिवाइस ,ऑपरेटिंग सिस्टम या ब्राउज़र पर सही तरीके से डिस्प्ले कर सकते हैं|
  • सीखने में आसान : HT का syntax बहुत ही सिंपल होता है जिसके कारण इसे सीखना और उपयोग करना बहुत ज्यादा आसान हो जाता है इसमें टैग का उपयोग होता है जो मार्क अप लैंग्वेज को human readable बनाता है|
  • Structure & organisation : HTML आपको वेबपेज का स्ट्रक्चर डिफाइन करने की सुविधा देता है| HTML के heading Tags, paragraph tags, link tag, list, tables और अन्य एलिमेंट का उपयोग करके आप कंटेंट को लॉजिकल तरीके से अरेंज कर सकते हैं|
  • Hyperlinking : HTML के माध्यम से आप हाइपरलिंक क्रिएट कर सकते हैं| इससे आप एक टेक्स्ट में लिंक ऐड कर सकते हैं इसका फायदा यह है कि आप किसी एक टेक्स्ट पर क्लिक करके किसी दूसरे वेब पेज पर आसानी से जा सकते हैं|
  • Multemedia support : HTML मल्टीमीडिया एलिमेंट्स जैसे की इमेज, वीडियो ,ऑडियो SVG आदि को सपोर्ट करता है| आप इन एलिमेंट्स को वेब पेज में ऐड कर सकते हैं|
  • integration with css & javascript : एचटीएमएल में आप css और javascript को भी ऐड कर सकते हैं जिससे आप अपने वेबपेज की फंक्शनैलिटी को और भी इंप्रूव कर सकते हैं |css एचटीएमएल पेज को स्टाइल करने के लिए यूज किया जाता है और javascript वेब पेज को functional बनाने के लिए यूज किया जाता है|

HTML कैसे सीखें (How to learn html in hindi) :

आप HTML को बुक्स पढ़ने की वजह मोबाइल, कंप्यूटर से आसानी से सीख सकते हैं आप html सीखने के लिए कुछ यूट्यूब चैनल और वेबसाइट्स को फॉलो कर सकते हैं जो की आप नीचे देख सकते हैं :

youtube channel : codewithharry, yahoo baba, apna college

websites : w3schools.com

सबसे ज़्यादा ध्यान देने वाली बात यह है की स्टार्टिंग में आपको केवल html की बेसिक सीखनी है कुछ लोग यह ग़लती कर देते हैं की वह पूरी html को खतम करने में लग जाते हैं जो की सही तरीक़ा नही है और न ही आपको पूरे html की ज़रूरत पड़ने वाली है इसीलिए आप स्टार्टिंग में केवल html के बेसिक कॉन्सेप्ट को सीखिए, उसकी प्रैक्टिस करिए, website और प्रोजेक्ट बनाइए। धीरे धीरे आप html में एक्स्पर्ट भी हो सकते हैं।

निष्कर्ष :

तो आज के इस आर्टिकल में आपने जाना की html क्या है (what is html in hindi), html tags, html full form और तो और features of html in hindi, advantages of html in hindi, types of html tags, how to make simple html webpage आदि|

Hello Guys, Ayush this side. I am founder of studypunchx. I love to share trending and useful informations. keep Growing.....

Leave a Comment