Java Variables in Hindi | Types of Variable in java in Hindi

java variables in hindi
java variables in hindi

Java Variables क्या है ?

प्रोग्रामिंग में वेरिएबल एक महत्वपूर्ण कांसेप्ट होता है| वेरिएबल एक कंटेनर का काम करता है जो की वैल्यू स्टोर करने के काम आता है| वेरिएबल एक temperory स्टोरेज लोकेशन होता है|

प्रोग्रामिंग में वेरिएबल एक यूनिक नेम होता है जिसको हम अपने मन मुताबिक कुछ भी नाम दे सकते हैं|वेरिएबल में हम डाटा को स्टोर कर सकते हैं और उसे बाद में अपने प्रोग्राम में यूज कर सकते हैं|

आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे की java variable kya hai, types of variable in java, static variable in java, instance variable in java, local variable in java, what is variable in java in hindi आदि

Variable शब्द दो शब्दो से मिलकर बना है (vari + able) | vari का अर्थ है चेंज या बदलाव और able का अर्थ हैं योग्य होना| यानी की variable का अर्थ है ऐसी वैल्यू जो चेंज करने योग्य है|

जब भी हम कोई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का यूज करते हैं या उसका प्रोग्राम बनाते हैं तो हम वैरियेबल्स का यूज तो डाटा या वैल्यू स्टोर करने के लिए करते ही हैं यह values किसी भी टाइप की हो सकती है जैसे की String, integer, character, boolean, float, etc.

प्रोग्रामिंग में हर वेरिएबल को एक डाटा टाइप के साथ assign किया जाता है| अब ये Data Type क्या होता है ? तो दरअसल डाटा टाइप वेरिएबल के लिए अलग-अलग वैल्यू को स्टोर करने की कैपेसिटी को दर्शाते हैं, यानी कि हम वेरिएबल को जिस भी डाटा टाइप के साथ डिफाइन करेंगे वह उसी टाइप की वैल्यू को स्टोर कर सकेगा|

जैसे की :

  • Integer – …..-3, -2, -1, 0, 1, 2, 3……..
  • Float – दशमलव वाली संख्याएं (1.2, 34.2,…)
  • String – कोई भी नाम या sentence (Amit, rahul, vishal, mukesh….)
  • Boolean – true or false
  • Character – केवल अक्षर (a,b,c,x,y,z…..)

Java Variables को declare करने के नियम (Declaration Rule of variable in java) :

जावा में ही नहीं बल्कि अन्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में भी variables को डिफाइन करने के कुछ नियम होते हैं जो कि आपको जरूर फॉलो करना चाहिए, इनकी अनुपस्थिति में आपको आपके प्रोग्राम में error देखने को मिल सकते हैं :
  • वेरिएबल का नाम कभी भी नंबर से स्टार्ट नहीं होना चाहिए बल्कि वैरिएबल का नाम हमेशा अल्फाबेट (a,b,A,B,c…) से या underscore ( _ ) से ही शुरु होना चाहिए|
  • वेरिएबल के नेम में स्पेशल कैरक्टर्स जैसे की (@,#,₹,&,*,etc) आदि का यूज नहीं किया जाना चाहिए|
  • वेरिएबल की नेम को short और मीनिंगफुल रखना चाहिए ताकि उसे देखकर समझ में आ जाए की इसमें किस purpose के लिए वैल्यू स्टोर की गई है|
  • वेरिएबल का नेम केस सेंसेटिव होता है इसीलिए सेम नाम के variable को डिफरेंट केस में डिक्लेअर नहीं करना चाहिए|”name” और “Name” दोनो अलग अलग variable हैं|
  • वेरिएबल के साथ उसका डाटा टाइप लिखना जरूरी है ताकि कंपाइलर को पता चल सके कि इस वेरिएबल में किस टाइप की वैल्यू स्टोर होगी|जैसे की हमे a = 10; नही लिखना है बल्कि int a = 10; लिख सकते हैं|
  • वेरिएबल के नेम के बीच में स्पेस नहीं होना चाहिए रखना ही है तो आप underscore का यूज कर सकते हैं|जैसे की int number = 10; को आप int num ber =10; नही लिख सकते हैं
  • Reserved keywords का use वेरिएबल के नाम के रूप में नहीं करना चाहिए|जैसे की int float = 10; या float if = 2; क्युकी यहां पर float और if दोनो ही java में reserved keywords हैं|

Variable को declare और initialize कैसे करें (How to declare a variable in java) :

  • Variable Declaration : वेरिएबल को डिक्लेअर करने के लिए हमें उसका डाटा टाइप और नेम दोनों ही लिखना पड़ेगा| डाटा टाइप वेरिएबल के nature और वैल्यू टाइप को बताता है|
Syntax : data_type variable_name;
Ex : int count;
यहां पर count वेरिएबल का नाम है और int उसका डाटा टाइप है, यानी कि इस वेरिएबल में केवल integer टाइप की वैल्यू स्टोर की जा सकती है|
  • Variable Initialization : वेरिएबल को initialize करने का मतलब है कि उसमें कोई वैल्यू डाल देना| लोकल वैरियेबल्स को डिक्लेअर करते समय उनको उन्हें initialize करना जरूरी होता है वरना कंपाइल टाइम error आता है instance वेरिएबल और static वेरिएबल को initialize करना ऑप्शनल होता है अगर कोई वैल्यू assign नहीं की गई है तो डिफॉल्ट वैल्यू असाइन कर दी जाती है|
Syntax : variable_name = value;
count = 10;
या int count = 10; (यदि variable को declare नही किया है तो)
variables के प्रकार  (Types of variable in java with example) :
जावा में वेरिएबल तीन प्रकार के होते हैं :
1) Local Variable
2) Instance Variable
3) Static Variable

(1) Local Variable :

लोकल वैरियेबल्स को हमेशा method, constructor या block के अंदर declare किया जाता है| ये variables उन्ही method, constructor या block से access किए जा सकते हैं, जिसमे ये declare किए गए होते हैं| लोकल वेरिएबल को initialize करना जरूरी होता है नहीं तो कंपाइल टाइम Error आता है|
public void printMessage(){
  String message = "Hello World" // local variable message
  System.out.println(message);  // print the value of message
  }
  

(2) Instance Variable :

इंस्टेंस वेरिएबल क्लास के अंदर डिक्लेअर किए जाते हैं लेकिन मेथड के बाहर| इन्हें ऑब्जेक्ट के द्वारा एक्सेस किया जा सकता है| इंस्टेंस वेरिएबल क्लास के हर Object के साथ एसोसिएट होते हैं और हर ऑब्जेक्ट के लिए अलग-अलग वैल्यू हो सकते हैं|
public class Car{
  String make; // instance variable make
  String model;  // instance variable model
  int year;  instance variable year
  public void displayCarInfo(){
  System.out.println("Make: "+make);
  System.out.println("Model: "+model);
  System.out.println("Year: "+year);
    }
  }
  

(3) Static Variable :

Static Variable भी class के अंदर ही डिक्लेअर किए जाते हैं लेकिन इन्हें ऑब्जेक्ट के द्वारा एक्सेस नहीं किया जा सकता है| यह Variable क्लास के हर ऑब्जेक्ट के लिए समान होते हैं| Static वैरियेबल्स को क्लास के द्वारा access किया जा सकता है|
public class Example{
  Static int counter = 0;  // Static variable counter
  
  public Example(){
  counter++;
  }
  
  public static void main(String args[]){
  Example obj1 = new Example();
  Example obj2 = new Example();
  Example obj3 = new Example();

  System.out.println("Number of objects created: "+counter);  // print the value of static variable counter
  }
}  
  

निष्कर्ष :

तो दोस्तों आपने आज के इस article में जाना की java variable kya hai, types of variable in java, static variable in java, instance variable in java, local variable in java, what is variable in java in hindi आदि

Leave a Comment