MBBS Doctor kaise bane ? जानिए डॉक्टर बनने से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी |

डॉक्टर कैसे बनें
डॉक्टर कैसे बनें

बचपन से ही कुछ लोगों का सपना होता है कि उन्हें बड़े होकर डॉक्टर बनना है हालांकि तब इस बारे में निर्णय लेने के लिए वे बहुत छोटे होते हैं जबकि उन्हें पता भी नहीं होता है की एक MBBS Doctor kaise bane ? डॉक्टर बनने के लिए क्या क्या योग्यताएं होती है ? और एक डॉक्टर बनने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ता है ? 12वी के बाद डॉक्टर कैसे बने ?  लेकिन इस छोटी सी उम्र में भी वे इस बात से पूर्णता परिचित होते हैं कि एक डॉक्टर का क्या काम होता है|

 यह तो बात हुई बचपन की लेकिन यदि अभी आप बड़े हो गए हैं और हाईस्कूल (10+2) की परीक्षा आपने पास कर ली है और आपका भी सपना है एक डॉक्टर बनने का और सोच रहे हैं की 12वी के बाद डॉक्टर कैसे बने ?  तो इसके लिए आपको बहुत मेहनत के साथ-साथ एक सही मार्गदर्शक की जरूरत होगी| डॉक्टर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है ? यह भी हम आपको आज इस आर्टिकल में बताएँगे।
 एक डॉक्टर बनना समाज में बहुत ही गर्व की बात है| एक डॉक्टर का काम मरीजों की दवाई करना, उन्हें ठीक करना और पैसे कमाना ही नहीं होता बल्कि एक डॉक्टर अपने जीवन में इतने कठिन दिन देखता है जिसका आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं|
 लेकिन एक डॉक्टर बनने के लिए आपको क्या-क्या करना होगा ? क्या-क्या योग्यताएं आपके पास होनी चाहिए और कितनी मेहनत करने के बाद आप एक सफल डॉक्टर बन पाएंगे यह सभी चीजें हम इस आर्टिकल में डिस्कस करेंगे|
यदि आप भी सोच रहे हैं की कम पैसे में डॉक्टर कैसे बने, सरकारी डॉक्टर कैसे बने,  MBBS Doctor kaise bane ? 12वी के बाद डॉक्टर कैसे बने ? तो इस आर्टिकल को पूरा लास्ट तक पढ़िए, तो चलिए इस आर्टिकल को शुरू करते हैं और जानते हैं की एक MBBS Doctor kaise bane |

डॉक्टर कैसे बने (MBBS Doctor kaise bane in hindi):

भारत में डॉक्टर बनना एक अत्यधिक प्रतिष्ठित और पुरस्कृत कैरियर मार्ग है जिसमें समय धन और प्रयास के महत्वपूर्ण निवेश की आवश्यकता होती है|
भारत में एक लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक (डॉक्टर) बनने के लिए आपको किन-किन कदमों की आवश्यकता होगी वह सभी आप नीचे देख सकते हैं और उसके हिसाब से अवलोकन कर सकते हैं :

उच्च माध्यमिक शिक्षा पूरी करें (12th पास करें) :

भारत में डॉक्टर बनने का पहला कदम अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा को पूरा करना है|
आपको 12वीं में प्रमुख विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ 12वीं की शिक्षा पूरी करनी होगी और साथ ही साथ इन विषयों में आपके कम से कम 50 से 60% अंक आने अनिवार्य है|
 तभी जाकर आप अपनी डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए आगे की तैयारी कर सकते हैं|

राष्ट्रीय पात्रता सही प्रवेश परीक्षा (NEET) की तैयारी करें :

अपनी उच्च माध्यमिक शिक्षा यानी की 12वीं की शिक्षा पूरी करने के बाद आपको राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) के लिए उपस्थित होना होगा जो भारत में चिकित्सा प्रवेश परीक्षा है|
 नीट की तैयारी के लिए आप कम से कम 1 साल या 2 साल तक मेहनत कर सकते हैं और उसके बाद नीट की परीक्षा के लिए अप्लाई कर दें|
यदि आप NEET क्लियर करने में असफल हो जाते हैं तो छोड़िए मत दोबारा से परीक्षा दीजिए और प्रयास करते रहिए, हो सकता है आप NEET के सिलेबस को न समझ पा रहे हों, इसीलिए प्रयास करते रहें, हार मत मानें|
राष्ट्रीय पात्रता सही प्रवेश परीक्षा(NEET)  NTA द्वारा आयोजित की जाती है इस परीक्षा में आपको पास होना जरूरी है|
यह परीक्षा आपके ज्ञान और विज्ञान के बारे में गंभीर रूप से सोचने की आपकी क्षमता का आकलन करता है| देशभर के किसी भी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने की परीक्षा अनिवार्य है|

मेडिकल कॉलेज में आवेदन करें :

यदि आपने नीट की परीक्षा अच्छे अंको से पास कर ली है तो उसके बाद में आपका अगला कदम आता है कि आप किसी अच्छी सी मेडिकल कॉलेज में अपने एडमिशन के लिए आवेदन करें जो एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करवाते हैं|
सीटों को अखिल भारतीय कोटा और राज्य कोटा में विभाजित किया गया है विभिन्न मेडिकल कॉलेजों में आपको एडमिशन लेने के लिए एक बात का ध्यान रखना होगा|
यहां पर मेडिकल कॉलेज में सीट आपको NEET में प्राप्त अंकों और आप जिस श्रेणी से संबंधित हैं उसके आधार पर आवंटित की जाएगी|

एमबीबीएस (MBBS) डिग्री पूरी करें :

एक बार जब आप मेडिकल कॉलेज में प्रवेश प्राप्त कर लेते हैं तो आपके अगले साढ़े पांच साल कक्षा और नैदानिक शिक्षा को पूरा करने में व्यतीत करेंगे|
एमबीबीएस कोर्स के पहले 3 साल मुख्य रूप से कक्षा में बीत जाते हैं जहां आप एनाटॉमी, फार्माकोलॉजी और अन्य बुनियादी विज्ञान के पाठ्यक्रम के बारे में अध्ययन करेंगे|
 एमबीबीएस के पिछले ढाई साल अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य देखभाल सेटिंग में क्लीनिकल रोटेशन पूरा करने में व्यतीत होते हैं|

भारतीय चिकित्सा परिषद परीक्षा(IMCE) के लिए उपस्थित हो :

एमबीबीएस की डिग्री पूरी करने के बाद आपको भारतीय चिकित्सा परिषद परीक्षा (IMCE) के लिए उपस्थित होना होगा|
 यह एक राष्ट्रव्यापी परीक्षा है जो बुनियादी और नैदानिक विज्ञान के बारे में आपके ज्ञान का परीक्षण करती है|
भारत में एक पंजीकृत चिकित्सक बनने के लिए आपको परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी|

कंपल्सरी रोटेटरी रेजिडेंशियल इंटर्नशिप (CRRI) को पूरा करें :

IMCE की परीक्षा पास करने के बाद आपको 1 साल के लिए अनिवार्य रोटेटरी रेजिडेंशियल इंटर्नशिप पूरा करना होगा इस इंटर्नशिप के दौरान आपको चिकित्सालय, शल्य चिकित्सा, प्रसूति, स्त्री रोग और बाल रोग जैसे विभिन्न विशिष्टताओं में व्यवहारिक प्रशिक्षण और अनुभव प्राप्त होगा|

चिकित्सा पंजीकरण प्राप्त करें :

कंपलसरी रोटेटरी रेजिडेंशियल इंटर्नशिप (IMCE) को पूरा करने के बाद आप भारतीय चिकित्सा परिषद (MCI) या राज्य चिकित्सा परिषद के साथ चिकित्सा पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं| यह पंजीकरण एक डॉक्टर के रूप में अभ्यास शुरू करने के लिए आवश्यक है|

स्नातकोत्तर प्रवेश परीक्षा पास करें :

एमबीबीएस की डिग्री पूरी करने और एक पंजीकृत चिकित्सक बनने के बाद आप किसी चुनी हुई विशेषता में स्नातकोत्तर डिग्री जैसे एमडी या एमएस की डिग्री को चुन सकते हैं|
 इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश पाने के लिए आपको अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान या स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान संस्थान जैसी स्नातकोत्तर प्रवेश परीक्षाओं को पास करना होगा|

निष्कर्ष :

अब तो आपको पता चल ही गया होगा की एक कम पैसे में डॉक्टर कैसे बने, सरकारी डॉक्टर कैसे बने,  MBBS Doctor kaise bane ? 12वी के बाद डॉक्टर कैसे बने ? आदि।
शैक्षणिक आवश्यकताओं के अलावा भारत में डॉक्टर बनने के लिए व्यक्तिगत समर्पण, अनुशासन और प्रतिबद्धताओं की भी आवश्यकता होती है|
 एक डॉक्टर का काम केवल मरीजों का इलाज करना ही नहीं है बल्कि लोगों के दर्द और पीड़ा को कम करना भी है यह एक 24/7 काम है और आपको अपने रोगियों के लिए जब भी आप की आवश्यकता हो उपलब्ध होने की आवश्यकता है|
 कैरियर को चिकित्सा विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नवीनतम प्रगति के साथ अद्यतन होने और एक अच्छा श्रोता संचालक और समस्या समाधान करता होने की भी आवश्यकता है|
 एक डॉक्टर बनना एक चुनौतीपूर्ण लेकिन अत्यधिक पुरस्कृत करियर पथ है| 

Leave a Comment