मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियाँ और उनके उद्गम स्थल | all Rivers of mp|

 मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां और उनके उद्गम स्थल |Rivers of madhya pradesh In Hindi (mp gk)

mp gk, gk today, mo ki nadiya, mp rivers, मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां
मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियां



 

 

 

 

 

 

 

यदि आप प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे है तो exams में मध्यप्रदेश की प्रमुख नदिया और उनके उद्गम स्थल के बारे में जरूर पूछा जाता है|

मध्य प्रदेश की नदियों का अपवाह तंत्र बहुत बड़ा है और जिसके बारे में सटीक जानकारी होना हमारे लिए अति आवश्यक है, तो चलिए जानते है……

मध्यप्रदेश की नदिया और उनके उद्गम स्थल  : (Major Rivers of madhya pardesh In Hindi)

1) मध्यप्रदेश में कितनी नदिया हैं और उनके नाम ?

2) मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी नदी का क्या नाम है ?

2) बंगाल की खाड़ी में गिरने वाली नदिया कौन कौन सी है ?

3) मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी पवित्र नदी कौन सी है ?

3) अरब सागर में गिरने वाली सभी नदिया?

मध्यप्रदेश की नदियों का अपवाह तंत्र :

 

(क) बंगाल की खाड़ी का अपवाह तंत्र 

(ख) खंभात की खाड़ी का अपवाह तंत्र

चलिए अब क्रम से इन दोनो अपवाह तंत्र के बारे में जानते है

गोदावरी नदी :

उद्गम = त्रयंबक पहाड़ी नासिक, महाराष्ट्र

प्रवाह = महाराष्ट्र, तेलंगाना 

समापन = बंगाल की खाड़ी

लंबाई = 1465 km.

सहायक नदी = इंद्रावती, शबरी, कोटरी

 

नर्मदा नदी : 

उद्गम = अनूपपुर जिला (अमरकंटक की पहाड़ी ),मैकल श्रेणी 

लंबाई = 1312 किलोमीटर, (mp 1077) किलोमीटर समापन = खंभात की खाड़ी

 सहायक नदी :

दाएं तट की सहायक नदियां = हिरण, तिंदोनी ,वारना ,चंद्रकेश्वर, जामनेर, मान, हथिनी (कुल 19 नदियां )

बाएं तट की सहायक नदियां = बंजर, सेर, शक्कर, दूधी ,तवा ,कुंदी ,देव गोई (कुल 22 नदियां)

अन्य नाम = मध्य प्रदेश की लोक माता, मध्य प्रदेश की जीवन रेखा ,रेवा ,संकरी, मेकलसूता, अमरकंठी, नामोदोस

अपवाह तंत्र = 93180 वर्ग किमी

परियोजना = सरदार सरोवर बांध परियोजना,इंदिरा सागर बांध परियोजना

▪️यह डेल्टा नहीं बनाती बल्कि एस्चुरी का निर्माण करती है|

▪️भारत की पांचवीं सबसे बड़ी नदी है |

▪️इसका अपवाह तंत्र वृक्ष के समान है|

▪️यह कर्क रेखा के समांतर बहती है|

 

तवा नदी :

उद्गम = होशंगाबाद जिला ,पचमढ़ी (महादेव पर्वत की कालीभीत पहाड़ी)

 समापन = नर्मदा नदी

▪️मध्य प्रदेश का दूसरा सबसे लंबा नदी सड़क पुल इसी नदी पर है |

▪️नर्मदा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है|

▪️ नर्मदा और तवा नदी के संगम पर मांधार जलप्रपात है|

 

चंबल नदी :

उद्गम = इंदौर ,महू की जानापाव पहाड़ी 

कुल लंबाई = 965 किलोमीटर ,(mp में 320 किमी) समापन = यमुना नदी 

अपवाह क्षेत्र (mp) = 57054 वर्ग किमी

अन्य नाम = चर्मावती ,धर्मावती ,कामधेनु ,रतिदेव ,कीर्ति

नदी किनारे बसे नगर = (mp में) रतलाम, श्योपुर, महू, मुरैना

 सहायक नदियां = कालीसिंध ,पार्वती ,क्षिप्रा, बनास

परियोजना = गांधी सागर बांध (मंदसौर), जवाहर सागर बांध (राजस्थान), राणा प्रताप सागर बांध (राजस्थान)

▪️यह चित्तौड़गढ़ में राजस्थान व मध्यप्रदेश की सीमा बनाती है|

▪️यह इटावा से 38 किलोमीटर दूर यमुना में मिल जाती है ▪️यह भैसरोगढ़ में चूलिया जलप्रपात बनाती है |

▪️चंबल नदी की mp, up सीमा की लंबाई 112 किमी है|

 

क्षिप्रा नदी :

 उद्गम = इंदौर (काकरीबर्डी पहाड़ी )

समापन = चंबल नदी 

प्रवाह = देवास, उज्जैन ,रतलाम, मंदसौर

 सहायक नदी = कान्ह नदी, खान नदी

 लंबाई = 195 किमी

▪️महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग इसी नदी के तट पर है|

▪️ कुंभ का मेला इसी नदी के तट पर है|

▪️ इसे मालवा की गंगा भी कहते हैं|

खान नदी :

उद्गम = इंदौर (रालामंडल की पहाड़ियां)

 समापन = क्षिप्रा नदी

 प्राचीन नाम = ख्याता

 सहायक नदी = सरस्वती नदी (इंदौर)

 

पार्वती नदी :

उद्गम = सीहोर जिला 

समापन = चंबल नदी 

अन्य नाम = पारा

 

काली सिंध नदी:

उद्गम = देवास जिला, बागली गांव(विंध्यांचल पहाड़ी)

समापन = चंबल नदी 

लंबाई = 461 किमी, (mp में) 150 किमी 

प्रवाह = देवास, शाजापुर, राजगढ़ ,राजस्थान ,झालावाड़, कोटा

 

सोन नदी:

उद्गम = म. प्र. अनूपपुर जिला ,अमरकंटक पहाड़ी

समापन = गंगा नदी

 कुल लंबाई = 780 किमी ,(mp में) 509 किमी

 प्रवाह = यूपी ,झारखंड, बिहार 

अन्य नाम = स्वर्ण नदी, सोन, सोन पालिका, हिरण्यबाहु

सहायक नदी = जोहिला, गोयद, रिहंद, उत्तरी, कोईल परियोजना = बाणसागर परियोजना (शहडोल)

 

 

टोंस नदी (तमस नदी):

उद्गम = सतना जिला, कैमूर श्रेणी (तमाशा कुंड जलाशय) समापन = गंगा नदी 

लंबाई = 320 किमी

सहायक नदी = बवई, बेलन, सोनकर, बेलाज, महान

▪️यह उत्तर प्रदेश में प्रयागराज के निकट सिरसा में गंगा में मिल जाती है|

 

 

बेतवा नदी:

उद्गम = रायसेन, कुमरा गांव (विंध्यांचल श्रेणी)

 लंबाई = 540 किमी

समापन = यमुना नदी

 अन्य नाम = वेत्रावती 

सहायक नदी = बीना, धसान , जामनी ,हलाली

 परियोजना = हलाली परियोजना (सम्राट अशोक सागर परियोजना), माताटीला बांध परियोजना (रानी लक्ष्मीबाई परियोजना), राजघाट परियोजना|

▪️ इसी के तट पर कंचन घाट है|

▪️इसी के तट पर प्रसिद्ध बौद्ध स्थल विदिशा व सांची है| ▪️बेतवा नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा बनाती है|

▪️ यह हमीरपुर के पास यमुना में मिल जाती है|

 

सिंध नदी :

उद्गम = विदिशा के सिरोंज तहसील से 

 लंबाई = 470 किमी 

समापन = यमुना नदी 

सहायक नदी = पाहुज, कुंवारी, माहुर, पार्वती

 प्रवाह = (उत्तर पूर्व की ओर बहती हुई) गुना, अशोकनगर, शिवपुरी, दतिया, ग्वालियर, भिंड|

 

 

केन नदी :

उद्गम = कटनी (भांडेर श्रेणी)

समापन = यमुना ,उत्तर प्रदेश (जिला गांव)

लंबाई = 472 किमी, (mp में) 292 किमी 

अन्य नाम = शुक्तिमती, कर्णवती, कैनास

▪️ इस नदी में पांडव जलप्रपात है|

 

 

माही नदी :

उद्गम = धार जिला, सरदारपुर 

प्रवाह = रतलाम, राजस्थान, गुजरात

लंबाई = 543 किमी 

▪️इसे पृथ्वी पुत्री भी कहते हैं|

▪️यह भारत की एकमात्र नदी है जो कर्क रेखा को दो बार काटती है|

बेनगंगा नदी :

उद्गम = सिवनी जिला, परसवाण पठार

समापन = गोदावरी नदी

लंबाई = 570 किमी 

▪️बेनगंगा और वर्धा के संगम को “प्रणाहिता” के नाम से जाना जाता है|

 

Leave a Comment