भारत में कृषि का विकास| भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्व| Agriculture In India UPSC|

भारत में कृषि विकास, भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्व
भारत में कृषि विकास

भारत में कृषि का महत्व :

हमारा भारत देश एक कृषि प्रधान देश है हमारे भारत देश में भारत की अर्थव्यवस्था को बनाए रखने में कृषि का बहुत ही  महत्वपूर्ण योगदान है|प्रतियोगी परीक्षाओं में भारत में कृषि विकास, भारत में कृषि का महत्व, भारत में कृषि विकास pdf, भारत में कृषि उत्पादकता, agriculture in india upsc, agriculture in india pdf, agriculture in india upon, भारत में कृषि उत्पादन, भारत में कृषि का इतिहास ,भारत में कृषि का योगदान, भारत में कृषि के प्रकार, भारत में कृषि एवं फसलें, भारत में कृषि एवं उद्योग , भारत में कृषि की वर्तमान स्थिति ,भारत में कृषि क्रांति, भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्व भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का योगदान  से संबंधित प्रश्न अक्सर पूछे जाते हैं, इसीलिए इस पोस्ट को पूरा लास्ट तक पढ़े ताकि परीक्षा में आने वाले भारत में कृषि से संबंधित कोई भी प्रश्न आप से छूट न पाए|

भारत में कृषि विकास (Agriculture In India UPSC) :

• भारत के कुल क्षेत्रफल का लगभग 51% भाग पर कृषि, 4% भूभाग पर चारागाह, लगभग 21% भाग पर वन एवं 24% भाग बंजर और बिना उपयोग की है|

• कृषि राज्य का विषय है, जिसका उल्लेख संविधान की सातवीं अनुसूची में है|

• राष्ट्रीय कृषक आयोग ने 4 अक्टूबर 2006 ईस्वी को सिफारिश प्रस्तुत की, की कृषि को राज्य सूची से हटा कर समवर्ती सूची में लाया जाए|

• स्वतंत्र भारत के पहले मंत्रिमंडल 1947 ई. में कृषि और खाद्य मंत्री डॉ राजेंद्र प्रसाद को बनाया गया था|

• भारत की मुख्य खाद्य फसल चावल है|भारत में खाद्य फसलों में सबसे अधिक चावल का उत्पादन होता है|

• भारत में खाद्यान्नों के अंतर्गत आने वाले कुल क्षेत्र के 47% भाग पर चावल और 14% भाग पर गेहूं की खेती की जाती है|

• IR–20 चावल की अधिक पैदावार देने वाली किस्म है|

• भारत विश्व का 21.7% चावल और 12% गेहूं उत्पादन करता है|

• देश में गेहूं के उत्पादन में उत्तर प्रदेश प्रथम स्थान पर है जबकि प्रति हेक्टेयर उत्पादन में पंजाब का स्थान प्रथम है|

विभिन्न कृषि क्रांतियां :

कृषि क्रांतिया 
क्रांति उत्पादन से संबंधित
 हरित क्रांति  खाद्यान्न उत्पादन
 श्वेत क्रांति  दुग्ध उत्पादन
 नीली क्रांति  मत्स्य उत्पादन
 भूरी क्रांति  उर्वरक उत्पादन
 रजत क्रांति  अंडा उत्पादन
 पीली क्रांति  तिलहन उत्पादन
 कृष्ण क्रांति  बायोडीजल उत्पादन
 लाल क्रांति  टमाटर/ मांस उत्पादन
 गुलाबी क्रांति  झींगा मछली उत्पादन
 बादामी क्रांति  मसाला उत्पादन
 सुनहरी क्रांति  फल उत्पादन
 अमृत क्रांति  नदी जोड़ो परियोजनाए
 गोल क्रांति  आलू उत्पादन
 स्वर्ण क्रांति  बागवानी
 खाकी क्रांति  चमड़ा
 

————————

हरित क्रांति :

• भारत में हरित क्रांति लाने का श्रेय डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन को जाता है

• भारत में हरित क्रांति की शुरुआत 1967 से 1968 ईस्वी में हुई|

• प्रथम हरित क्रांति के बाद 1983–84 ई में द्वितीय क्रांति की शुरुआत हुई|

• हरित क्रांति का सबसे अधिक प्रभाव गेहूं और चावल की कृषि पर पड़ा है परंतु चावल की तुलना में गेहूं के उत्पादन में अधिक वृद्धि हुई है|

• हरित क्रांति के फलस्वरूप देश में दलहन व मोटा अनाज का अंश कम हो गया है|

• भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ वी कुरियन को माना जाता है|

• भारत उर्वरक उत्पादन एवं उपभोग में विश्व में तीसरे स्थान पर है जबकि चीन एवं अमेरिका क्रम साहब पहले व दूसरे स्थान पर हैं|

• तंबाकू की पत्तियों को सुखाने की प्रक्रिया को क्यूरिंग कहते हैं|

• भारत में चाय की खेती 1840 ई में असम की ब्रह्मपुत्र घाटी से प्रारंभ हुई|

• भारत में सर्वोत्तम चाय दार्जिलिंग में पैदा की जाती है|

• विश्व प्रसिद्ध उलंग किस्म की चाय ताइवान में पैदा होती है|

• सबसे उच्च कोटि का कहवा अरेबिका होता है|कहवा की अन्य दो किस्में रोबस्ता व लिबेरिका है|

• सिक्किम को जैविक खेती करने वाला भारत का प्रथम राज्य घोषित किया गया|

• अरहर को लाल चना तथा पिजन पी के नाम से भी जाना जाता है|

• भारत में कृषि को प्रभावित करने वाला मौसम का सबसे महत्वपूर्ण तत्व वृष्टि है|

• कृष्णा गोदावरी डेल्टा क्षेत्र को भारत का चावल का कटोरा कहा जाता है|

• भारत का सर्वाधिक खाद्य उत्पादन करने वाला राज्य उत्तर प्रदेश  है|

• भारत में सर्वाधिक क्षेत्रफल में चावल की खेती होती है|

• चावल की फसल भारत में सबसे अधिक उपज देती है|

• भारत का धान्य भंडार पंजाब को कहा जाता है|

• भारत में बड़े पैमाने पर जूट की खेती हुगली नदी घाटी क्षेत्र में की जाती है|

• सोयाबीन की खेती का सर्वाधिक क्षेत्रफल मध्यप्रदेश में है|

• भारत लंबे रेशे के कपास का आयात मुख्यता मिस्त्र व सूडान से करता है|

• भारत में “ऑपरेशन फ्लड” कार्यक्रम का आरंभ 1970 ई‌ में हुआ था|

• ऑपरेशन फ्लड का संबंध दुग्ध उत्पादन से है|

• भारत देश का 70% से अधिक कॉफी अकेला पैदा करने वाला राज्य कर्नाटक है तथा देश का 50% रेशम का उत्पादन करने वाला राज्य भी कर्नाटक ही है|

• नीलगिरी के पहाड़ी क्षेत्रों में कॉफी की खेती की जाती है|

• दक्षिण भारत में सर्वाधिक चाय उत्पादन करने वाला राज्य तमिलनाडु है|

• भारतीय दलहन शोध संस्थान कानपुर में है|

• भारतीय सब्जी शोध संस्थान वाराणसी में स्थित है|

• तिलहन प्रौद्योगिकी मिशन की स्थापना 1986 में हुई|

• चाय की फसल के लिए पानी की अधिकता आवश्यक है लेकिन जमाव नहीं|

• चावल की खेती के लिए 100 सेंटीमीटर से अधिक वर्षा जरूरी है|

भारत के राज्यो का विभिन्न फसलों के उत्पादन में स्थान :

फसल प्रथम द्वितीय तृतीय
 चावल  पश्चिम बंगाल  उत्तर प्रदेश  पंजाब
 गेहूं  उत्तर प्रदेश  मध्य प्रदेश  पंजाब
 बाजरा  राजस्थान  उत्तर प्रदेश  गुजरात
 मक्का  महाराष्ट्र  कर्नाटक  मध्य प्रदेश
 चना  मध्य प्रदेश  महाराष्ट्र  राजस्थान
 अरहर  महाराष्ट्र  कर्नाटक  मध्य प्रदेश
 मसूर  उत्तर प्रदेश  मध्य प्रदेश  बिहार
 मूंगफली  गुजरात  राजस्थान  आंध्र प्रदेश
 सरसों  राजस्थान  हरियाणा  मध्य प्रदेश
 सोयाबीन  मध्य प्रदेश  महाराष्ट्र  राजस्थान
 सूरजमुखी  कर्नाटक  उड़ीसा  आंध्र प्रदेश
कपास  महाराष्ट्र  गुजरात  तेलंगाना
 जूट  पश्चिम बंगाल  बिहार  असम
 आलू  उत्तर प्रदेश  पश्चिम बंगाल  बिहार
 प्याज  महाराष्ट्र  गुजरात  कर्नाटक
 गन्ना  उत्तर प्रदेश  महाराष्ट्र  कर्नाटक
 काजू  महाराष्ट्र
 दाल  राजस्थान
 केसर  जम्मू कश्मीर
 रेशम  कर्नाटक
 चाय  असम
 प्राकृतिक रबड़  केरल
 मछली  पश्चिम बंगाल
 दुग्ध  उत्तर प्रदेश
 मसाले  आंध्र प्रदेश
 सुपारी  कर्नाटक
 कॉफी  कर्नाटक
 अंगूर  नासिक
 ग्वार गोंद  राजस्थान
 कुल खाद्यान्न  उत्तर प्रदेश  मध्य प्रदेश  पंजाब
 कुल दलहन  मध्य प्रदेश  महाराष्ट्र  राजस्थान
 कुल तिलहन  मध्य प्रदेश  राजस्थान  महाराष्ट्र
 कुल मोटा अनाज  राजस्थान  महाराष्ट्र  कर्नाटक
भारत के राज्यो का कृषि उत्पादन में स्थान

विभिन्न फसलों के उत्पादन में विश्व में भारत का स्थान :

भारत का स्थान (विश्व में )
फसल स्थान  फल उत्पादन  द्वितीय
 सब्जी उत्पादन  द्वितीय
 नारियल उत्पादन  तृतीय
 प्राकृतिक रबड़  चतुर्थ
 तंबाकू उत्पादन  द्वितीय
 दुग्ध उत्पादन  प्रथम

NOTE :  यदि आप किसी Government Exam की तैयारी कर रहे हैं तो हम आपके लिए लाए हैं FULL GK भंडार वो भी Free, Free, Free…… जो आपकी तैयारी में बहुत ही मददगार साबित होगा 

Leave a Comment