द्रौपदी मुर्मू बनी देश की 15वी महिला राष्ट्रपति| जाने कैसा था उनका शिक्षिका से लेकर राष्ट्रपति बनने तक का सफर|

 एनडीए की महिला उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू बनी देश की 15वी महिला राष्ट्रपति| Draupadi Murmu|

द्रौपदी मुर्मू बनी देश की 15वी महिला राष्ट्रपति|
द्रौपदी मुर्मू बनी देश की 15वी महिला राष्ट्रपति|

देश की 15वी राष्ट्रपति (द्रौपदी मुर्मू) :

पूरे भारत देश के सामने एक बहुत बड़ी सूचना निकल कर सामने आ रही है की मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव मैं रहने वाली द्रौपदी मुर्मू देश की 15 वी राष्ट्रपति बन चुकी है| द्रौपदी मुर्मू भारत की 15वीं राष्ट्रपति है उसके साथ साथ ही द्रौपदी मुर्मू आजाद भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति और देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति भी है|

आज हम आपको द्रौपदी मुर्मू से संबंधित कई सवालों के जवाब देंगे जैसे की

  • द्रौपदी मुर्मू कौन है ?
  • द्रौपदी मुर्मू का घर कहां है ?
  • द्रौपदी मुर्मू का जन्म कब हुआ था ?
  • देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति ?
  • New president of india ?

 एनडीए की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति चुनाव जीत लिया है तीसरे राउंड की गिनती में ही उन्होंने राष्ट्रपति बनने के लिए जरूरी 50 फ़ीसदी वोट प्राप्त कर लिया है|

 द्रौपदी मुर्मू के विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा थे जिनको द्रौपदी मुर्मू ने बड़े ही अंतर से हरा दिया है|

राष्ट्रपति पद का शपथ ग्रहण :

देश की 15 की राष्ट्रपति देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति द्रौपदी मुरमू 25 जुलाई को राष्ट्रपति पद की शपथ लेगी|

 25 जुलाई को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद से हटा दिया जाएंगे और राष्ट्रपति पद वर्तमान राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को दे दिया जाएगा|(द्रौपदी मुर्मू का कार्यकाल)

कितने वोट हासिल किए :

 आपको बता दें कि द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति चुनाव में कुल 5,77,777 वोट प्राप्त किए थे| राष्ट्रपति चुनाव मे कुल 3219 वोट पड़े, जिसकी वैल्यू 8,38,839 है जिसमें से द्रौपदी मुर्मू को 2161 वोट मिले जिनकी वैल्यू 5,77,777 है|और इनमें से द्रौपदी मुरमू के विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को 1058 वोट मिले जिसकी वैल्यू 261062 है|

इस प्रकार से द्रौपदी मुर्मू ने अपने विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को बड़ी ही आसानी से हराकर राष्ट्रपति पद को जीत लिया है और आज वह वर्तमान में अपने भारत देश की 15वी वर्तमान राष्ट्रपति बन चुकी है|

देश का प्रथम नागरिक (द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति) :

जैसा कि आप जानते हैं कि भारत का राष्ट्रपति राष्ट्राध्यक्ष होने के साथ-साथ भारतीय सशस्त्र सेनाओं का सुप्रीम कमांडर और देश का पहला नागरिक भी होता है यहां पर आपको यह भी जानना जरूरी है की देश की वर्तमान राष्ट्रपति द्रौपदी मुरमू भारत देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति है इनसे पहले प्रतिभा पाटिल देश का राष्ट्रपति पद महिला राष्ट्रपति के तौर पर संभाल चुकी हैं|

कुल कितने वोट से मिली जीत :

अब आपको बताते हैं कि राज्यसभा के सेक्रेटरी जनरल पीसी मोदी के अनुसार तीसरे राउंड में कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, मणिपुर ,मध्य प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, मिजोरम, पंजाब और उड़ीसा राज्य के वोटों की गिनती हुई और इस राउंड में कुल वैध वोट 1333 रहे जिनमें से द्रौपदी मुर्मू को कुल 812 वोट मिले जबकि यशवंत सिन्हा को 521 वोट मिले|जोकि देश की वर्तमान राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को देश की 15वी राष्ट्रपति बनाने का मुख्य कारण बना|

द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography):

द्रौपदी मुर्मू जो कि अब देश की 15 वी महिला राष्ट्रपति बन चुकी है उसके साथ ही देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति बन चुकी है|(द्रौपदी मुर्मू जीवनी)

द्रौपदी मुर्मू का जन्म मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ है यह गांव दिल्ली से लगभग 2000 किलोमीटर दूर और उड़ीसा के भुवनेश्वर से लगभग 313 किलोमीटर दूर है|(द्रौपदी मुर्मू का गांव)

 द्रोपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को हुआ था उनके पिता का नाम बिरंचि नारायण टुडू है|(द्रौपदी मुर्मू family)

 द्रौपदी मुरमू आदिवासी परिवार से ताल्लुक रखती हैं अब यदि बात करें द्रौपदी मुर्मू के विवाह की, तो द्रौपदी मुर्मू का विवाह श्याम चरण मुर्मू से हुआ था|(द्रौपदी मुर्मू कौन है)

द्रौपदी मुर्मू की शिक्षा (द्रौपदी मुर्मू education) :

यदि बात करें द्रौपदी मुर्मू की शिक्षा की तो द्रौपदी मुर्मू मयूरभंज जिले की कुसुमी तहसील के एक छोटे से गांव ऊपरबेड़ा में स्थित एक छोटी सी स्कूल से पढ़ी है|

 द्रौपदी मुरमू के पति और दो बेटों के निधन हो जाने के बाद उन्होंने अपने घर को बोर्डिंग स्कूल में बदल दिया जहां आज भी स्कूल संचालित की जाती है|

छोटे से गांव से राष्ट्रपति बनने तक का सफर : 

जैसा की आप सभी को पता है की द्रौपदी मुर्मू अब देश की 15वी वर्तमान महिला राष्ट्रपति बन चुकी हैं लेकिन इसके पीछे का द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति बनने तक का सफर क्या था वह बहुत कम लोग ही जानते हैं तो चलिए जानते हैं कि राष्ट्रपति बनने तक द्रौपदी मुर्मू को किन किन परिस्थितियों और परेशानियों का सामना करना पड़ा|

यदि बात करें द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने तक के सफर की तो द्रौपदी मुर्मू ने सबसे पहले 1994 से 1997 के बीच रायरंगपुर के श्री अरबिंदो इंटीग्रेटेड एजुकेशन एंड रिसर्च में एक टीचर के रूप में काम किया और उसके बाद 1997 में उन्होंने अधिसूचित क्षेत्र परिषद में एक निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ा और वह चुनाव में जीत भी गई|

 एक शिक्षक होने के नाते उन्होंने प्राथमिक विद्यालय में अलग-अलग विषयों को पढ़ाया और अपना शिक्षिका का सफर पूरा किया|

रायरंगपुर सीट से दो बार विधायक भी बनी :

द्रौपदी मुर्मू रायरंगपुर सीट से दो बार विधायक भी बन चुकी है द्रौपदी मुर्मू ने साल 1997 में रायरंगपुर नगर पंचायत के पार्षद चुनाव में जीत हासिल करके अपने राजनीतिक जीवन का शुभारंभ किया था|

 द्रौपदी मुर्मू उड़ीसा के मयूरभंज जिले की रायरंगपुर सीट से 2000 और 2009 में बीजेपी के टिकट पर दो बार विधायक बन चुकी है|

 उसके साथ ही द्रौपदी मुर्मू  2000 और 2004 के बीच वाणिज्य परिवार और बाद में मत्स्य और पशु संसाधन विभाग में मंत्री भी बनाई गई|

झारखंड की पहली महिला राज्यपाल भी रहीं :

द्रौपदी मुर्मू मई 2015 में झारखंड की 9वी राज्यपाल भी बन चुकी है जिसमें उन्होंने सैयद अहमद की जगह ली थी| आपको बता दें कि द्रौपदी मुर्मू झारखंड की पहली महिला राज्यपाल थी जिसके कारण उन्होंने झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनने का खिताब भी जीता |

Your queries :

द्रौपदी मुर्मू family, द्रौपदी मुर्मू education, द्रौपदी मुर्मू की शिक्षा, द्रौपदी मुर्मू jati, द्रौपदी मुर्मू कौन है, द्रौपदी मुर्मू फैमिली हिस्ट्री, द्रौपदी मुर्मू जीवनी, द्रौपदी मुर्मू कार्यकाल

Leave a Comment